श्री स्वामी समर्थ योग व गहन आध्यात्मिक मार्गदर्शन: सर्वकामना सिद्धि स्तोत्र SEO

 स्वामी साधक सदस्यता घेऊन "दत्तप्रबोधिनीकर" व्हा...!

ब्रम्ह अंतःकरण कसे बनते ? अनुकरणशील स्वतंत्र सद् मार्ग...!
घरातील देवघर व देव पंचायतन आधिष्ठान - २
नवनाथ ग्रंथ ( Navnath Bhaktisar ) पारायण कसे करावे ? ब्रम्हाण्डीय सामर्थ्य विश्लेषण...!
आत्मरत्न ( Soul Gem ) म्हणजे काय ? माणुस का भरकटतो ?
श्री गोरक्ष किमयागिरी प्रवाह नाथामृत सिद्धग्रंथ व कार्यसिद्धी...!
Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu
LIVE सुरु असलेले वाचन
चालु आठवड्यातील वाचलेली निवडक लिखाणे
चालु महिन्यातील वाचलेली निवडक लिखाणे

सर्वकामना सिद्धि स्तोत्र



सर्वकामना सिद्धि स्तोत्र

श्री हिरण्य-मयी हस्ति-वाहिनी, सम्पत्ति-शक्ति-दायिनी।

मोक्ष-मुक्ति-प्रदायिनी, सद्-बुद्धि-शक्ति-दात्रिणी।।1।।

सन्तति-सम्वृद्धि-दायिनी, शुभ-शिष्य-वृन्द-प्रदायिनी।

नव-रत्ना नारायणी, भगवती भद्र-कारिणी।।2।।

धर्म-न्याय-नीतिदा, विद्या-कला-कौशल्यदा।

प्रेम-भक्ति-वर-सेवा-प्रदा, राज-द्वार-यश-विजयदा।।3।।

धन-द्रव्य-अन्न-वस्त्रदा, प्रकृति पद्मा कीर्तिदा।

सुख-भोग-वैभव-शान्तिदा, साहित्य-सौरभ-दायिका।।4।।

वंश-वेलि-वृद्धिका, कुल-कुटुम्ब-पौरुष-प्रचारिका।

स्व-ज्ञाति-प्रतिष्ठा-प्रसारिका, स्व-जाति-प्रसिद्धि-प्राप्तिका।।5।।

भव्य-भाग्योदय-कारिका, रम्य-देशोदय-उद्भाषिका।

सर्व-कार्य-सिद्धि-कारिका, भूत-प्रेत-बाधा-नाशिका।।6।।

अनाथ-अधमोद्धारिका, पतित-पावन-कारिका।

मन-वाञ्छित॒फल-दायिका, सर्व-नर-नारी-मोहनेच्छा-पूर्णिका।।7।।

साधन-ज्ञान-संरक्षिका, मुमुक्षु-भाव-समर्थिका।

जिज्ञासु-जन-ज्योतिर्धरा, सुपात्र-मान-सम्वर्द्धिका।।8।।

अक्षर-ज्ञान-सङ्गतिका, स्वात्म-ज्ञान-सन्तुष्टिका।

पुरुषार्थ-प्रताप-अर्पिता, पराक्रम-प्रभाव-समर्पिता।।9।।

स्वावलम्बन-वृत्ति-वृद्धिका, स्वाश्रय-प्रवृत्ति-पुष्टिका।

प्रति-स्पर्द्धी-शत्रु-नाशिका, सर्व-ऐक्य-मार्ग-प्रकाशिका।।10।।

जाज्वल्य-जीवन-ज्योतिदा, षड्-रिपु-दल-संहारिका।

भव-सिन्धु-भय-विदारिका, संसार-नाव-सुकानिका।।11।।

चौर-नाम-स्थान-दर्शिका, रोग-औषधी-प्रदर्शिका।

इच्छित-वस्तु-प्राप्तिका, उर-अभिलाषा-पूर्णिका।।12।।

श्री देवी मङ्गला, गुरु-देव-शाप-निर्मूलिका।

आद्य-शक्ति इन्दिरा, ऋद्धि-सिद्धिदा रमा।।13।।

सिन्धु-सुता विष्णु-प्रिया, पूर्व-जन्म-पाप-विमोचना।

दुःख-सैन्य-विघ्न-विमोचना, नव-ग्रह-दोष-निवारणा।।14।।

श्री सद्गुरुचरर्णार्पणमस्तु l श्री स्वामी समर्थ महाराज की जय ll

महत्त्वाची सुचना... 

इष्ट कार्यसिद्धीसाठी संबंधित वरील स्तोत्र सिद्ध करण्याहेतुने आवश्यक असलेली विनियोग व गोपनीय अनुष्ठान पद्धती फक्त संस्थेच्या सक्रीय सभासदांसाठीच उपलब्ध आहे.

संपर्क : श्री. कुलदीप निकम
भ्रमणध्वनी : 9619011227

GET FRESH CONTENT DELIVERED BY EMAIL:


FOR JOINING WITH US VISIT: दत्तप्रबोधिनी सभासदत्व माहीती

स्वामीसभासद नोंदणी प्रार्थमिक अर्ज

GET FRESH CONTENT DELIVERED BY EMAIL:


FOR JOINING WITH US VISIT: दत्तप्रबोधिनी सभासदत्व माहीती